अयोध्या का राम मंदिर नहीं, ये है भारत का सबसे बड़ा मंदिर, कई किलोमीटर तक फैला है दायरा

[ad_1]

Largest Temple Of India: राम मंदिर में भगवान राम की प्राण प्रतिष्ठा की तारीख तय हो चुकी है. कई सालों के संघर्ष के बाद राम मंदिर का निर्माण हो रहा है, जो अगले कुछ ही महीने में पूरा हो जाएगा. इसके बाद 22 जनवरी 2024 को भगवान राम की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा होगी और मंदिर भक्तों के लिए खुल जाएगा. कई लोगों को लग रहा है कि राम मंदिर भारत का सबसे बड़ा मंदिर बनने जा रहा है, लेकिन ऐसा नहीं है. आज हम आपको बता रहे हैं कि देश का सबसे बड़ा मंदिर कौन सा है…

देश में कहां है सबसे बड़ा मंदिर?
देश में फिलहाल सबसे बड़ा मंदिर तमिलनाडु में है. तिरूचिरापल्ली में स्थित ये मंदिर रंगनाथस्वामी का मंदिर है. द्रविड़ शैली में इस मंदिर का निर्माण हुआ है. इसमें कई छोटे-छोटे मंदिर मौजूद हैं. मंदिर की वेबसाइट बताती है कि ये पूरा मंदिर 156 एकड़ तक फैला हुआ है. यानी करीब चार किलोमीटर तक मंदिर का परिसर है. इसकी ऊंचाई 236 फीट तक है. वहीं राम मंदिर की बात करें तो इसकी ऊंचाई 161 फीट होगी और ये करीब 108 एकड़ में फैला होगा.

ये मंदिर दुनिया का सबसे बड़ा मंदिर होने का भी दावा करता है, इसका कारण ये है कि दुनिया का सबसे बड़ा मंदिर कंबोडिया का अंगरकोट वाट मंदिर है. जो करीब 600 से ज्यादा एकड़ में फैला हुआ है, लेकिन ये मंदिर क्रियाशील नहीं है. यही वजह है कि रंगनाथस्वामी मंदिर सबसे बड़े मंदिर होने का दावा करता है. 

यहां बन रहा दुनिया का सबसे बड़ा मंदिर
अब भारत में एक ऐसा मंदिर भी बन रहा है, जो दुनिया का सबसे बड़ा मंदिर होगा. ये मंदिर पश्चिम बंगाल के नदिया जिले के मायापुर में बनाया जा रहा है. ISKON की तरफ से इस मंदिर का निर्माण किया जा रहा है. ये मंदिर साल 2009 से बनाया जा रहा है, जो 2024 तक बनकर तैयार हो जाएगा. ये दुनिया का सबसे बड़ा वैदिक मंदिर होगा. ये मंदिर परिसर करीब 28 लाख वर्गमीटर में फैला हुआ है. 

ये भी पढ़ें – US Mass Shooting: अमेरिका में लोगों की कुल आबादी से ज्यादा हैं बंदूकों की संख्या, चौंकाने वाला है ये आंकड़ा

[ad_2]

Source link

Leave a Comment