अल्बर्ट आइंस्टीन भी थे यहूदी, हिटलर से ऐसे बचाई थी अपनी जान

[ad_1]

Albert Einstein: इजरायल और हमास के बीच जंग कब खत्म होगी, फिलहाल इसका जवाब किसी के पास भी नहीं है. इजरायल ने इस चरमपंथी संगठन का सफाया करने की कसम खा ली है, जिसका नतीजा है कि हजारों की संख्या में लोगों की मौत हो चुकी है. इजरायल एक छोटा सा देश है, जहां पर यहूदी सबसे ज्यादा संख्या में रहते हैं. यानी ये एक यहूदियों का देश है. इस जंग के बीच यहूदियों को लेकर कई सारी चीजें चर्चा में हैं. क्या आप जानते हैं कि दुनिया के सबसे बुद्धिमान शख्स अल्बर्ट आइंस्टीन भी यहूदी थे… वो हिटलर के दौर में जर्मनी में ही रहते थे और उन्हें अपनी जान बचाकर भागना पड़ा था. 

जर्मनी में रहते थे आइंस्टीन
दरअसल इजरायल से पहले यूरोप में यहूदियों की सबसे ज्यादा जनसंख्या रहती थी. जर्मनी में भी लाखों यहूदी रहा करते थे, जिनमें अल्बर्ट आइंस्टीन भी एक थे. एडोल्फ हिटलर के चुने जाने के बाद एक राष्ट्रवाद की भावना तेजी से जर्मनी में फैलने लगी, ये भावना गैर यूरोपियन लोगों को लेकर थी. जिसमें सबसे ज्यादा नफरत यहूदियों को लेकर फैलने लगी. 

अमेरिका में लेनी पड़ी शरण
जब जर्मनी में हिटलर ने नरसंहार शुरू किया तो कई यहूदी अपनी जान बचाकर भागने लगे. अल्बर्ट आइंस्टीन को भी पता चल गया था कि अब यहां रहना खतरे से खाली नहीं है. इसलिए वो भागकर अमेरिका चले गए और वहां शरण ली. इस दौरान विज्ञान की दुनिया में आइंस्टीन का नाम सबसे ऊपर था. उनके अलावा जर्मनी से कई विद्वान और साइंटिस्ट भी अमेरिका चले गए थे. इस दौरान हिटलर ने करीब 60 लाख लोगों की हत्या करवाई थी, जिनमें से ज्यादातर यहूदी थे. 

आज अगर यहूदी आबादी की बात करें तो दुनियाभर में इनकी आबादी दो करोड़ से भी कम है. जिनमें से सबसे ज्यादा इजरायल में रहते हैं. इसके अलावा अमेरिका, कनाडा फ्रांस और ब्रिटेन में भी यहूदी रहते हैं. 

ये भी पढ़ें – Jews Holocaust: यहूदियों से क्यों नफरत करता था हिटलर? 60 लाख लोगों का किया था नरसंहार

[ad_2]

Source link

Leave a Comment