एसिडिटी से हैं बहुत परेशान है तो मिनटों में ठीक हो जाएगा अपनाएं ये ट्रिक

[ad_1]

Acidity Problem Solution : एसिडिटी मुख्य रूप से तब बनती है जब हमारा पेट पर्याप्त मात्रा में एसिड नहीं बना पाता. एसिड का काम खाने को पचाना होता है. अगर एसिड कम बनता है तो पेट में खाना अच्छे से नहीं पचता और एसिडिटी बढ़ जाती है. एसिडिटी या अम्लता यह एक सामान्य समस्या है जो हममें से बहुतों को परेशान करती है. अचानक पेट में होने वाला जलन, दर्द और उलटी जैसा अहसास बहुत ही असहज लगता है. क्योंकि एसिडिटी से तुरंत राहत पाने के लिए हमारे पास कुछ कारगर और आसान घरेलू उपाय हैं जो कुछ ही मिनटों में लाभ सकते हैं. आइए जानते हैं…

ठंडा दूध
एसिडिटी से राहत पाने का एक बहुत ही आसान और कारगर तरीका है. ठंडा दूध पीना. अगर आपको दूध पीने में कोई समस्या नहीं है तो ठंडा दूध पीने से एसिडिटी में तुरंत आराम मिलता है. दूध में कैल्शियम होता है जो पेट में एसिड के ज्यादा पैदा होने को रोकता है. इससे पेट में जलन और दर्द कम हो जाता है. ठंडा दूध पीने से एसिडिटी का असर शांत हो जाता है और आराम मिलता है. इसलिए एसिडिटी की समस्या होने पर ठंडा दूध रामबाण इलाज है.

अजवाइन 
आपने बिल्कुल सही कहा है. अजवाइन एसिडिटी या अम्लता जैसी समस्याओं से राहत दिलाने में बहुत ही फायदेमंद साबित होती है. अजवाइन में कुछ सक्रिय एंजाइम और रसायन पाए जाते हैं जो पेट से जुड़ी समस्याओं को दूर करने में मदद करते हैं. यह पेट में एसिड के प्रभाव को कम करता है और पेट को शांत करता है. अजवाइन का सेवन एसिड रिफ्लक्स जैसी समस्याओं में राहत पहुंचाता है और पाचन तंत्र को सुधारने में सहायक होता है.

एप्पल साइडर सिरका
एप्पल साइडर सिरका में मैलिक एसिड होता है, जो एसिडिटी को नियंत्रित करने में मदद करता है. यह पेट में एसिड के स्राव को कम करके और न्यूट्रलाइज करके काम करता है. एप्पल साइडर सिरका को पानी के साथ मिलाकर पीने से एसिडिटी से होने वाला जलन और दर्द शांत हो जाता है. इसमें प्रोबायोटिक्स भी होते हैं जो पाचन में सुधार करते हैं. इसे रोजाना पीने से एसिडिटी पर काबू पाया जा सकता है. 

तुलसी के पत्ते
तुलसी में जीवाणुरोधी और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो एसिडिटी के कारणों से लड़ने में मदद करते हैं. यह पेट में एसिड के प्रभाव को कम करता है और पेट को शांत रखता है. तुलसी की कुछ पत्तियां पीसकर पानी में मिलाकर पीने से एसिडिटी की परेशानी में तुरंत आराम मिलता है. इसका नियमित इस्तेमाल एसिडिटी पर नियंत्रण रखने में मदद करता है. 

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों और सुझाव पर अमल करने से पहले डॉक्टर या संबंधित एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें.
यह भी पढ़ें 
जानें गुड़ कितने तरह के होते हैं? कौन सा गुड़ खाना सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है?

 

Check out below Health Tools-
Calculate Your Body Mass Index ( BMI )

Calculate The Age Through Age Calculator

[ad_2]

Source link

Leave a Comment