करवा चौथ पर अपनों को भेजें ये शुभकामनाएं, मजबूत होंगे रिश्ते, बढ़ेगा प्रेम

[ad_1]

Karwa Chauth 2023 Wishes: 1 नवंबर 2023 को करवा चौथ का व्रत है. करवा चौथ का व्रत सुहागिन महिलाओं के लिए सर्वाधिक महत्वपूर्ण होता है और इस व्रत का महिलाओं को साल भर इंतजार रहता है.कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को करवा चौथ के रूप में मनाए जाने की परंपरा है. ये व्रत पति-पत्नी के प्रेम का प्रतीक है. मान्यता है कि करवा चौथ व्रत के प्रताप से सुहाग पर कभी कोई संकट नहीं आता. माता करवा पति की दीर्धायु का वरदान देती हैं और व्रत के फलस्वरूप दांपत्य जीवन में खुशहाली आती है. 

करवा चौथ के दिन महिलाएं सूर्योदय से पहले जागकर सरगी खाकर व्रत की शुरुआत करती हैं. उसके बाद महिलाएं पूरे दिन निर्जला व्रत रखती हैं. शाम को छलनी से चांद देखकर और पति की आरती उतारकर अपना व्रत खोलती हैं. करवा चौथ के दिन आप भी अपने रिश्तेदारों, प्रियजनों और सहेलियों को ये शानदार शुभकामनाएं संदेश भेज सकते हैं.

सुबह की किरण में सरगी मिलेगी,
आज हर पत्नी दुल्हन की तरह सजेगी.
इस व्रत से पति की उमर बढ़ेगी,
हर सुहागिन को माता यह आशीर्वाद देंगी.

आज फिर आया है मौसम प्यार का,
ना जाने कब होगा दीदार चांद का,
पिया मिलन की रात है ऐसी आई,
आज फीर निखरेगा रूप मेरे यार का

सुख-दुःख में हम-तुम
हर पल साथ निभाएंगे,
एक जन्म नहीं सातों जन्म
पति-पत्नी बन आएंगे

नीले नभ पर जिस तरह बिखरती है चांदनी,
वैसे ही करवा चौथ का त्योहार लाए,
आपके दांपत्य जीवन में रागिनी।
करवा चौथ की हार्दिक शुभकामनाएं

करवा रानी करवा ले, सुघड़ सुहागन करवा ले
बना रहे अमर सुहाग हमारा, मां करवा का आशीष रहे
करवा चौथ की हार्दिक शुभकामनाएं

करवा मां के श्राप के डर से जैसे यमराज ने छोड़े उनके पति के प्राण
हे करवा माता, इस करवाचौथ पर हमारे पति को भी दो लंबी आयु का वरदान

करवा चौथ का ये त्योहार,
आए और लाए खुशियां हजार,
यही है हमारी दुआ,
आप हर बार मनाएं यह त्योहार

करवा चौथ का पावन व्रत मैंने आपके लिए किया है
क्योंकि, आप ही के प्रेम और
सम्मान ने मेरे जीवन को नया रंग दिया है

November Vrat Tyohar 2023: दिवाली, देवउठनी एकादशी, छठ पूजा कब ? जानें नवंबर का व्रत-त्योहार कैलेंडर

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

[ad_2]

Source link

Leave a Comment