कहीं आप अंधविश्वासी तो नहीं! इस रिपोर्ट ने उड़ाई आम जनता की नींद

[ad_1]

Black Magic: जादू-टोना और अलौकिक शक्तियों की बातों में कुछ लोग विश्वास रखते हैं. वैज्ञानिक दृष्टिकोण से यह बात स्वीकार नहीं होती, लेकिन समाज में ऐसी कई मान्यताएं हैं. अभी हाल ही में एक नया अध्ययन हुआ है, जिसमें इस बात की जांच की गई है. दुनिया भर में बहुत से लोग काला जादू, शाप, और अलौकिक शक्तियों में विश्वास करते हैं, और उन्हें ऐसा लगता है कि कुछ लोगों के पास सुपरनैचुरल पावर्स होते हैं, जिनसे वे दूसरों को नुकसान पहुंचा सकते हैं. 

इस स्टडी में हुआ खुलासा

अमेरिकी अर्थशास्त्री ने PLoS-ONE जर्नल में एक स्टडी प्रकाशित की है, जिसमें यह खुलासा किया गया है. इस स्टडी के अनुसार, कुछ लोग ऐसी शक्तियों से भी संपन्न हो सकते हैं, जिनसे वे अलौकिक या अप्राकृतिक शक्तियों का इस्तेमाल करके किसी दूसरे को नुकसान पहुंचा सकते हैं. यह स्टडी बताती है कि जादू-टोने की मान्यता के पीछे सिर्फ अंधविश्वास नहीं, बल्कि कई और कारण भी हो सकते हैं. इसके अनुसार जादू-टोने में विश्वास करने वालों की संख्या बहुत अधिक है.

40 फीसदी लोगों का है विश्वास

वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी के अमेरिकी अर्थशास्त्री बोरिस ग्रेशमैन ने अपने इस शोध के लिए 95 देशों और कुछ इलाकों से 1.4 लाख लोगों के विस्तृत आंकड़े इकठ्ठा किए. जिसमें से 40 फीसदी लोगों का मानना था कि उनको जादू-टोना, काला जादू आदि में विश्वास है. 

कितने लोग हैं अंधविश्वासी!

जादू टोने से जुड़ी मान्यताएं दुनिया भर में विभिन्न हैं. स्वीडन में केवल 9% लोगों को जादू-टोना में विश्वास है, जबकि ट्यूनीशिया में यह आंकड़ा 90% से अधिक है. ग्रेशमैन के अनुसार, यह स्टडी बताती है कि विभिन्न लोगों और समूहों में जादू-टोना के विश्वास की भिन्न-भिन्न दृष्टियां हैं. इसमें पढ़े लिखे और आर्थिक दृष्टिकोण से ठोस लोग भी शामिल हैं, जो जादू-टोना के मानने वालों में शामिल हो सकते हैं. इससे साबित होता है कि यह विश्वास केवल जानकारी की अभाव में नहीं, बल्कि विभिन्न सांस्कृतिक, सामाजिक, मानसिक और आर्थिक पहलुओं पर भी निर्भर करता है.

ये भी पढ़ें: Real Life Animal Story: जब जीते-जागते ‘एनिमल’ से रूबरू हुआ देश, एक रुमाल से किए थे 931 कत्ल, थर-थर कांपते थे अंग्रेज

 

[ad_2]

Source link

Leave a Comment