डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर से बूस्ट होगी ग्लोबल इकोनॉमी, मैन्युफैक्चरिंग में भी होगा देश का दबदबा! 

[ad_1]

India Mobile Congress 2023: भारत की ओर से डेवलप किया गया ​डिलिटल इंफ्रास्ट्रक्चर दुनिया की इकोनॉमी को एक रफ्तार दे सकता है. साथ ही मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में भी भारत के ग्लोबल लीडर बनने क्षमता है, क्योंकि पिछले कुछ सालों में सरकार के डिजिटल इंडिया पहल और जन धन-आधार-मोबाइल जैसे प्रयासों ने दुनिया को अपनी ओर आकर्षित किया है. एयरटेल के मालिक सुनील भारती मित्तल ने यह सभी बातें इंडिया मोबाइल कांग्रेस 2023 में कहीं. 

सु​नील मित्तल ने सरकार की सराहना करते हुए कहा कि भारत सरकार की ओर से डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर की चर्चा दुनिया भर में हो रही है. पीटीआई के मुताबिक, मित्तल ने कहा कि विश्व बैंक से लेकर संयुक्त राष्ट्र, डब्ल्यूटीओ, अफ्रीकी संघ, यूरोपीय संघ, जी20, आईसीडी देश और ब्रिक्स देशों का मानना है कि ​भारत का डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर ग्लोबल इकोनॉमी को गति दे सकता है. 

मार्च 2023 तक पूरे देश में 5G: सुनील मित्तल 

​भारत का डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर उन देशों की अर्थव्यवस्था को और तेजी से बढ़ाएगा, जहां इंफ्रास्ट्रक्चर की कमी है. मित्तल ने कहा कि एयरटेल 5जी को लेकर 5,000 शहरों और 20 हजार गांवों तक कनेक्टिविटी को बढ़ा दिया है. मार्च 2024 तक 5जी सर्विस सभी जगहों तक पहुंचा दी जाएगी. 

मैन्युफैक्चरिंग में भी भारत हो सकता है आगे 

सुनील मित्तल ने यह भी कहा कि भी देश में मैन्युफैक्चरिंग का भी कद बढ़ रहा है. दुनिया भर की कंपनियां भारत में तेजी से मैन्युफैक्चरिंग की ओर देख रही हैं. भारत आने वाले समय में मैन्युफैक्चरिंग में भी ग्लोबल लीडर बन सकता है. 

जल्द रोलआउट होगा वीआई का 5G

इंडिया मोबाइल कांग्रेस में वोडाफोन आइडिया की ओर से कुमारमंगलम बिरला ने कहा कि भारत में वीआई का नेटवर्क ग्राहकों को बेहतर नेटवर्क प्रोवाइड कराने पर फोकस है. उन्होंने कहा कि हम जल्द ही 5जी को रोलआउट करेंगे. साथ ही 4जी नेटवर्क को भी तेजी से बढ़ाएंगे. बिरला ने कहा कि ब्रांडबैंड कनेक्टिविटी की भी संख्या तेजी से बढ़ रही है और वीआई एग्रीकल्चर से लेकर लॉजिस्टिक सेक्टर को सुविधाएं प्रोवाइड करा रहा है. 

5जी 100 फीसदी इन-हाउस: आकाश अंबानी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर विजन का जिक्र करते हुए आकाश अंबानी ने कहा कि देश को हाईटेक तरीके से आत्मनिर्भर बनाने पर काम किया है. जियो का 5जी रोलआउट 100 फीसदी इन-हाउस 5G स्टैक पर काम करता है, जिसे पूरी तरह से भारतीय संस्थाओं ने डिजाइन और विकसित किया है. उन्होंने कहा कि देश के विकास में पूरी क्षमता का उपयोग करेंगे. 

ये भी पढ़ें 

Jio Space Fiber: दुर्गम इलाकों में भी हाई स्पीड मिलेगी इंटरनेट सर्विस, जियो सैटेलाइट टेक्नोलॉजी का करेगा यूज 

[ad_2]

Source link

Leave a Comment