बच्चों को सेक्स एजुकेशन कब से देना शुरू करें और कैसे, जानें एक्सपर्ट्स के अनुसार

[ad_1]

Sex Education : पहले माता-पिता अपने बच्चों के साथ सेक्स एजुकेशन जैसे विषयों पर खुलकर बात करने से बचते हैं. वे बच्चों से इस विषय पर बात करना असहज विषय मानते थे लेकिन अब इन विषयों पर बच्चों से बात करना परेंट्स जरूरी समझने लगे हैं. ऐसे में वे अब जानता चाहते हैं कि बच्चों को सेक्स एजुकेशन कब देना शुरू करना चाहिए. वे अक्सर इस बारे में कन्फ्यूज रहते हैं कि सही उम्र क्या है और बच्चों को सेक्स एजुकेशन के बारे में कैसे बताया जाए. आइए जानते हैं एक्सपर्ट्स के अनुसार…

भारत में, माता-पिता अब यह समझ रहे हैं कि बच्चों को सही और उनकी उम्र के हिसाब से  सेक्स एजुकेशन देना बहुत जरूरी है.टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के अनुसार नियति शर्मा ने एक गैर-लाभकारी संस्था ‘प्रतिसंधि’ शुरू की है. यह संस्था युवाओं और बड़ों को यौन संबंधी सही जानकारी देती है.नियति का कहना है कि बच्चों को यौन शिक्षा किसी भी उम्र में दी जा सकती है. बस ये जरूरी है कि बच्चों को सही और स्वस्थ जानकारी मिले. 

5 साल के उम्र के बच्चों को जानें कैसे शिक्षा दें 
5 साल से कम उम्र के बच्चों को कुछ बातें सिखानी चाहिए. जैसे – सुरक्षित और असुरक्षित स्पर्श क्या होता है. उनके पसंदीदा कार्टून के किरदारों की मदद से भावनाओं को समझाया जा सकता है. जब कोई करीबी उन्हें गले लगाता है तो उन्हें खुशी महसूस होती है. लेकिन अगर वे किसी पार्क में अकेले हों और कोई अजनबी उन्हें छू ले, तो उन्हें डर लग सकता है. इस तरह बच्चे यह पहचानना सीखते हैं कि अलग-अलग स्पर्श कैसा महसूस हो सकता है और वे सुनना सीखते हैं कि उनका शरीर और दिमाग उन्हें क्या बता रहा है. बच्चों को संभावित खतरनाक स्थितियों की सूची देना लगभग असंभव है, लेकिन इस तरह, वे उन्हें स्वयं पहचानना सीख सकते हैं. 

5 से 8 के बच्चों को जानें क्या शिक्षा दें 
जब आपका बच्चा पांच से आठ साल की उम्र के बीच का हो तो उन्हें सरल शब्दों में बताएं कि लड़के और लड़कियों के शरीर अलग-अलग होते हैं.उनके काम भी अलग हैं. बच्चों को समझाएं कि जब वे बड़े होंगे तो उनके शरीर में बदलाव आएगा और वे माता-पिता बन सकेंगे. बच्चों को यह भी सिखाएं कि किसी को भी अपने निजी अंगों को छूने की अनुमति नहीं देनी चाहिए, चाहे वह कोई भी हो. अगर ऐसा कोई करता है तो तुरंत बड़ों को बताना चाहिए. उन्हें परिवार और दोस्तों के साथ सीमाएं स्थापित करने का महत्व भी समझाएं। जैसे अनचाहे स्पर्श से बचना और खुद की निजता का सम्मान करना. 

10 से 13 साल के बच्चों जानें कैसे दें शिक्षा 
जब आपका बच्चा 10 से 13 साल की उम्र का हो जाता है, तब उसे यौवन संबंधी कई बातों के बारे में जानकारी देना जरूरी हो जाता है.इस उम्र में बच्चों के शरीर में कई बदलाव आने लगते हैं. इन शारीरिक एवं मानसिक बदलावों के बारे में उन्हें सही जानकारी दें. यौन संबंध व अन्य गतिविधियों के बारे में भी बताएं और सुरक्षित यौन-व्यवहार के तरीके सिखाएं.उन्हें समझाएं कि रिश्तों में संवाद, सहानुभूति और आपसी सम्मान जरूरी है. यौन-शोषण से बचाव के तरीके भी बताएं और कहें कि समस्या होने पर वे माता-पिता या शिक्षकों को बताएं.उनके किसी भी सवाल का बिना किसी संकोच के जवाब दें और उनकी गोपनीयता का पूरी तरह से ध्यान रखें. 

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों और सुझाव पर अमल करने से पहले डॉक्टर या संबंधित एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें.

 

[ad_2]

Source link

Leave a Comment