बाकी धर्मों की तरह दुनियाभर में क्यों नहीं बढ़ी यहूदियों की आबादी? ये है वजह

[ad_1]

Jews Population: इजरायल और चरमपंथी संगठन हमास के बीच जारी जंग फिलहाल खत्म होती नहीं दिख रही है, इस युद्ध में अब तक दोनों तरफ से 5 हजार से भी ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. मौतों का ये सिलसिला लगातार जारी है, इजरायल ने साफ किया है कि वो हमास को पूरी तरह से खत्म कर देगा. इसी बीच इजरायल और यहां रहने वाले यहूदियों को लेकर काफी चर्चा है. लोग यहूदियों को लेकर अलग-अलग चीजें पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं. ऐसे में एक सवाल ये भी है कि सैकड़ों साल पहले वजूद में आए यहूदी धर्म के लोगों की संख्या दुनियाभर में कम क्यों है?

दुनिया में कितनी आबादी?
दुनियाभर में सबसे ज्यादा यहूदी इजरायल में ही रहते हैं. यहां यहूदियों की कुल संख्या करीब 70 लाख है, वहीं दुनियाभर की अगर बात करें तो करीब दो करोड़ से भी कम यहूदी हैं. यानी दिल्ली की जनसंख्या से भी कम यहूदी पूरी दुनिया में रहते हैं. अब सवाल ये है कि मुस्लिम, ईसाई और बाकी धर्मों के मुकाबले यहूदियों की जनसंख्या पिछले कई दशकों में क्यों नहीं बढ़ी? इसके पीछे कुछ कारण हैं, जिन्हें हम आपको बताने जा रहे हैं. 

यहूदियों में मृत्युदर ज्यादा
यहूदियों की जनसंख्या कम होने और तेजी से नहीं बढ़ने का एक कारण ये भी है कि इस समुदाय से आने वाले लोगों में मृत्युदर काफी ज्यादा देखी गई है. कई अलग-अलग स्टडी और रिसर्च में इस बात की पुष्टि हुई है. इसके अलावा यहूदियों का नरसंहार भी इसका एक कारण माना जाता रहा है. 

धर्म परिवर्तन में विश्वास नहीं रखना भी यहूदियों की कम जनसंख्या का एक कारण माना जाता है. यहूदी धर्म परिवर्तन को लेकर कभी भी एक्टिव नहीं रहे, यहां तक कि कुछ रिपोर्ट्स में ये भी बताया गया है कि कुछ यहूदियों ने दूसरे धर्म को अपनाया. रिपोर्ट्स के मुताबिक पिछले कुछ दशकों में यहूदियों की संख्या में तेजी से गिरावट देखी जा रही है. 

ये भी पढ़ें – Pollution: दिल्ली में रहने पर पॉल्यूशन के कारण कितने साल कम हो जाएगी आपकी उम्र? जवाब सुनकर हिल जाएगा दिमाग

[ad_2]

Source link

Leave a Comment