‘यूक्रेन से जंग के बीच अपने ही सैनिकों को मार रहा रूस’, अमेरिका ने किया चौंकाने वाला दावा

[ad_1]

US Russia Conflict: अमेरिका ने एक बार फिर रूस पर गंभीर आरोप लगाए हैं. व्हाइट हाउस ने गुरुवार को दावा किया कि रूस यूक्रेन के साथ युद्ध के दौरान अपने ही सैनिकों को मार रहा है. व्हाइट हाउस का कहना है कि रूस अपने उन सैनिकों के खिलाफ कार्रवाई कर रहा है, जो जंग में अपने सीनियर्स की बात नहीं मान रहे हैं. 

फोर्ब्स की रिपोर्ट की अनुसार, गुरुवार को व्‍हाइट हाउस में हुई प्रेस ब्रीफिंग में राष्‍ट्रीय सुरक्षा परिषद के प्रवक्‍ता जॉन किर्बी ने ये आरोप रूस पर लगाए हैं. इस दौरान जॉन ने कहा कि अमेरिका के पास ऐसी जानकारी है कि यूक्रेन की तरफ से गोलीबारी में पीछे हटने की कोशिश करने पर रूस के कमांडर पूरी यूनिट को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं. 

युद्ध के लिए तैयार नहीं हैं रूसी सैनिक 

उन्होंने रूस के सैनिकों को अप्रशिक्षित, कम सुसज्जित और युद्ध के लिए तैयार नहीं रहने वाला कहा है. इतना ही नहीं, जॉन ने आरोप लगाया कि रूस केवल खराब प्रशिक्षित सैनिकों को लड़ाई में धकेल रहा है. उन्हें कोई उचित उपकरण नहीं दे रहा है. यहां तक कि उनके पास संसाधन से लेकर समर्थन तक की कमी है.

सैनिकों के जीवन का सम्मान नहीं करता रूस 

किर्बी ने आगे कहा कि रूस का अपने सैनिकों के प्रति यह व्यवहार इस बात को दर्शाता है कि रूस अपने सैनिकों के जीवन का कोई सम्मान नहीं करता है. उन्होंने आगे कहा कि रूस के सैन्य नेता जानते हैं कि वे क्या कर रहे हैं और उन्होंने इसे कितनी बुरी तरीके से संभाला है. उन्होंने कहा कि राष्‍ट्रपति जो बाइडेन के हाल ही में यूक्रेन के लिए प्रस्‍तावित सहायता पैकेज को कांग्रेस के जरिए जल्‍द से जल्‍द पास करने की जरूरत है. 

काउंसिल ऑन फॉरेन रिलेशंस के ग्लोबल कॉन्फ्लिक्ट ट्रैकर के अनुसार, रूसी सेनाओं ने यूक्रेन पर आक्रमण करने के डेढ़ साल में, यूक्रेनी सेनाओं ने रूस द्वारा जीतने में सक्षम क्षेत्र के 54% हिस्से पर फिर से कब्जा कर लिया है. रूस अब यूक्रेन के 18% हिस्से पर कब्ज़ा कर चुका है.

ये भी पढ़ें: कतर में 8 पूर्व भारतीय नौसैनिकों को मौत की सजा: फांसी के फंदे से कैसे बचाकर ला सकता है इंडिया, जानें कानूनी-कूटनीतिक रास्ते

[ad_2]

Source link

Leave a Comment