वो कौन सी स्थितियां हैं, जब आप वेटिंग लिस्ट वाली टिकट के साथ भी यात्रा कर सकते हैं?

[ad_1]

Travel With Waiting List Ticket: IRCTC भारत में ऑनलाइन टिकट बुकिंग की सर्विस प्रदान करता है. टिकट बुकिंग की सुविधा यात्रा की तारीख से 120 दिन यानी 4 महीने पहले खुलती है. टिकट बुक करते समय जिन्हें ‘कंफर्म’ स्थिति या ‘आरएसी’ (रद्दीकरण के खिलाफ आरक्षण) स्थिति मिलती है, वे यात्रा की तारीख पर यात्रा कर सकते हैं, लेकिन जिन्हें ‘डब्ल्यूएल’ स्थिति मिलती है, वे टिकट पर यात्रा नहीं कर सकते क्योंकि उन्हें सीट नहीं दी जाती है. ऐसे में वह कौन सा सिचुएशन है जब वह व्यक्ति यात्रा कर सकता है. आइए जानते हैं. 

वेटिंग लिस्ट वाले टिकटों के बाद एक नंबर होता है, जो आपके आगे यात्रियों की संख्या दिखाता है और RC/बर्थ दी जाएगी. प्रत्येक RC के साथ, यह संख्या आगे बढ़ती है और आरएसी स्थिति के करीब पहुंच जाती है.

क्या हैं नियम?

1) आईआरसीटीसी ने अपनी वेबसाइट पर बताया है कि जिन यात्रियों की स्थिति चार्ट तैयार होने के बाद कंफर्म या आरएसी है, उनके नाम चार्ट में दिखाई देंगे और वे अपनी यात्रा कर सकते हैं.
2) जिन यात्रियों के नाम वेटिंग लिस्ट में हैं, उनके नाम वेटिंग लिस्ट वाले यात्रियों सहित चार्ट में दिखाई देंगे.
3) ट्रेन का चार्ट तैयार होने से पहले ही ई-टिकट रद्द करने की अनुमति है. आरक्षण चार्ट तैयार होने के बाद रद्द किए जाने वाले ई-टिकट के दावों के लिए यूजर्स को जल्द से जल्द etickets@irctc.co.in पर एक ईमेल भेजना होगा, जिसमें टिकट का पूरा डिटेल देना होगा और दावा बताना होगा, जो तब किया जाएगा. आईआरसीटीसी द्वारा रेलवे प्रशासन के साथ ऑफ़लाइन कार्रवाई की जाएगी और रेलवे प्रशासन द्वारा स्वीकृत रिफंड यूजर्स के खाते में वापस जमा कर दिया जाएगा.
4) चार्ट तैयार होने के बाद जिन यात्रियों के नाम (लेन-देन में सभी यात्री) पूरी तरह से वेटिंग लिस्ट से छूट जाएंगे, उनके नाम हटा दिए जाएंगे और चार्ट में दिखाई नहीं देंगे. उन्हें ट्रेन में चढ़ने की इजाजत नहीं है. यदि ट्रेन में यात्रा करते हुए पाया गया तो उन्हें रेलवे नियमों के अनुसार बिना टिकट यात्रा करने वाला यात्री माना जाएगा.
5) चार्ट तैयार होने के बाद बचे हुए प्रतीक्षा सूची वाले टिकटों को रद्द करने का काम आईआरसीटीसी द्वारा किया जाएगा और रिफंड की व्यवस्था आईआरसीटीसी द्वारा रेलवे से की जाएगी और इलेक्ट्रॉनिक रूप से ग्राहक/एजेंट खाते में जमा की जाएगी.
6) अगर किसी व्यक्ति ने काउंटर से टिकट खरीदा है, और उसका टिकट कंफर्म नहीं हो पाया है तो वह ट्रेन में चढ़कर यात्रा कर सकता है. 

ये भी पढ़ें: क्या होता है ब्लडलेस हार्ट ट्रांसप्लांट? एशिया में पहली बार भारत ने किया कारनामा

[ad_2]

Source link

Leave a Comment