स्किन पर दिखने लगते हैं मेनोपॉज के लक्षण, जानिए इससे अपनी स्किन को बचाने के लिए क्या करें

[ad_1]

Menopause Symptoms: महिलाओं में एक उम्र के बाद मेनोपॉज (मेनोपॉज)होना एक नैसर्गिक क्रिया है जिसे रोका नहीं जा सकता. मेनोपॉज के बाद मैंस्ट्रअल प्रोसेस रुक जाती है और इसके दौरान शरीर में कई तरह के हॉर्मोनल उतार चढ़ाव किसी भी महिला के लाइफ सर्किल को काफी प्रभावित करते हैं. मेनोपॉज यूं तो 45 से 50 साल की उम्र में होता है लेकिन इसके लक्षण शरीर और स्किन (menopause effects on skin)पर पहले से दिखने शुरू हो जाते हैं. स्किन की बात करें तो मेनोपॉज के कई लक्षण आपकी स्किन पर दिखते हैं और उसे एजिंग की समस्या से रूबरू कराते हैं. चलिए जानते हैं कि स्किन पर दिखने वाले किस तरह के लक्षण मेनोपॉज से रिलेटेड होते हैं और उनसे कैसे डील (skin care in Menopause)किया जा सकता है. 

 

स्किन पर दिखने वाले मेनोपॉज के लक्षण   

मेनोपॉज के दौरान शरीर में हॉर्मोन का उतार चढ़ाव होता है और इससे त्वचा को जवां बनाए रखने वाले कोलेजन की कमी होने लगती है. ऐसे में त्वचा ढीली, रूखी, बेजान और सख्त दिखने लगती है. इन सभी को एजिंग के संकेतों से जोड़कर देखा जाता है. ऐसे में स्किन पतली और ढीली दिखने लगती है. मेनोपॉज के दौरान शरीर में एस्ट्रोजन नामक हॉर्मोन का स्तर गिरने लगता है जिससे त्वचा पर ड्राईनेस आती है औऱ चेहरे पर झुर्रियों के निशान दिखने लगते हैं. आंखों के नीचे काले घेर और पफी आइज की समस्या भी होने लगती है. इससे स्किन का लचीलापन और कमनीयता में कमी आने लगती है और फेशियल हेयर ज्यादा होने लगते हैं. 

 

मेनोपॉज के दौरान ऐसे रखें अपनी स्किन का ख्याल  

मेनोपॉज एक स्वाभाविक प्रोसेस है. इसे रोका नहीं जा सकता है लेकिन अगर आप चाहें तो इससे स्किन पर पड़ने वाले प्रभाव को कम करके अपनी स्किन को जवां बनाए रख सकती है. ऐसे में जब स्किन में कोलेजन का स्तर कम होने लगता है तो आपको स्किन का ज्यादा ध्यान रखना चाहिए. डेली बेसेस पर सनस्क्रीन अप्लाई करनी चाहिए. जितना हो सके अपनी स्किन को मॉस्चुराइज रखना चाहिए, रूखी स्किन जल्दी पतली और ढीली होती है. त्वचा के रूखेपन को कम करने के लिए मॉस्चुराइजर और एसेंशियल ऑयल यूज करना चाहिए. आंखों के नीचे काले घेरे दूर करने के लिए आपको अंडर आई क्रीम लगानी चाहिए. इस दौरान त्वचा ढीली होकर लटकने लगती है और चेहरे पर झुर्रियां दिखने लगती है, ऐसे में नियमित तौर पर फेशियल मसाज जरूरी है. एंटी एजिंग क्लींजर रोज यूज करें और जब भी कभी बाहर से लौटे तो अच्छी क्वालिटी का फेस वॉश जरूर यूज करें. नियमित तौर पर अपनी त्वचा का ख्याल रखकर आप मेनोपॉज के लक्षणों से अपनी त्वचा को बचा सकती हैं.

 

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों और सुझाव पर अमल करने से पहले डॉक्टर या संबंधित एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें.

 

यह भी पढ़ें 

Check out below Health Tools-
Calculate Your Body Mass Index ( BMI )

Calculate The Age Through Age Calculator

[ad_2]

Source link

Leave a Comment