Aviation Sector: घरेलू मार्केट में सुपरहिट और इंटरनेशनल रूट पर फ्लॉप हैं एयरलाइन्स 

[ad_1]

<p style="text-align: justify;"><span style="font-weight: 400;"><strong>Aviation Sector Growth:</strong> भारत के विमानन सेक्टर में अपार संभावनाएं हैं. यह तेजी से बढ़ता हुआ सेक्टर है, जिसमें आगे और जाने की पूरी गुंजाइश है. देश में नए एयरपोर्ट बन रहे हैं और पुराने हवाई अड्डों का कायाकल्प किया जा रहा है. देश में काम कर रही विमानन कंपनियों ने अच्छी प्रगति की है. ग्लोबल डोमेस्टिक एयर ट्रैफिक में भारत तीसरे नंबर है. मगर, इंटरनेशनल रूट्स पर भारतीय विमानन कंपनियां फिसड्डी साबित हुई हैं. यहां उनकी रैंक 18वीं है.&nbsp;</span></p>
<h3 style="text-align: justify;"><strong>टॉप-10 देशों में भी नहीं भारत&nbsp;</strong></h3>
<p style="text-align: justify;"><span style="font-weight: 400;">सीएपीए (CAPA) इंडिया के चीफ कपि कौल के अनुसार, दुनिया में भारत के घरेलू विमानन सेक्टर को फिलहाल तीसरी रैंक पर रखा गया है. मगर, इंटरनेशनल रूट पर भारत टॉप-10 देशों में भी नहीं गिना जाता है. उसकी रैंकिंग 18वीं है. विमानन सेक्टर को फिलहाल सुधारों की जरुरत है ताकि वह इंटरनेशनल रूट पर बेहतर कर पाए. साथ ही उन्हें अपनी क्षमता बढ़ाकर ज्यादा से ज्यादा लोगों को एयर ट्रेवल से जोड़ना होगा.&nbsp;</span></p>
<h3 style="text-align: justify;"><strong>भारत में प्रति व्यक्ति सीटों की खपत बहुत कम&nbsp;</strong></h3>
<p style="text-align: justify;"><span style="font-weight: 400;">उन्होंने कहा कि भारत में प्रति व्यक्ति सीटों की खपत सिर्फ 0.13 है और इंटरनेशनल ट्रेवल में यह आंकड़ा सिर्फ 0.06 तक ही पहुंचता है. ऑस्ट्रेलिया में यही आंकड़ा 3.11 है. भारत 4 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बन चुका है. हमारा अगला लक्ष्य 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनने का है. हमें एविएशन सेक्टर में अमरीका से टक्कर लेने के बारे में सोचना चाहिए. इस आर्थिक तरक्की के लिए विमानन सेक्टर का मजबूत होना बेहद जरूरी है.&nbsp;</span></p>
<h3 style="text-align: justify;"><strong>एयर इंडिया का प्राइवेटाइजेशन ऐतिहासिक फैसला&nbsp;</strong></h3>
<p style="text-align: justify;"><span style="font-weight: 400;">कई चुनौतियों के बावजूद दो साल पहले एयर इंडिया को निजी हाथों में सौंपने का फैसला एतिहासिक था. इससे घरेलू विमानन सेक्टर को नए पंख लगे हैं. साथ ही इस सेक्टर में किया गया यह बड़ा सुधार था. अगला दशक हमारे लिए संभावनाओं से भरा हुआ है. विमानन सेक्टर को इसके लिए कमर कस लेनी चाहिए.&nbsp;</span></p>
<h3 style="text-align: justify;"><strong>भारतीय एयरपोर्ट पर अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की संख्या बढ़ी</strong></h3>
<p style="text-align: justify;"><span style="font-weight: 400;">आंकड़ों के मुताबिक, भारतीय एयरपोर्ट पर अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की संख्या बढ़ी है. 2004 के मुकाबले 2019 में इसमें 10 फीसदी उछाल आया है. यदि सरकार डीजीसीए (DGCA) और ब्यूरो ऑफ सिविल एविएशन सिक्योरिटी (BCAS) जैसी नियामकीय संस्थाओं को मजबूत करे तो भविष्य बहुत उज्जवल होगा.</span></p>
<p><strong>खेलें इलेक्शन का फैंटेसी गेम, जीतें 10,000 तक के गैजेट्स 🏆</strong><br /><strong>*T&amp;C Apply</strong><br /><strong><a href="https://bit.ly/ekbabplbanhin" rel="nofollow">https://bit.ly/ekbabplbanhin</a></strong></p>
<p><strong>ये भी पढ़ें</strong></p>
<p style="text-align: justify;"><a href="https://www.abplive.com/business/this-wedding-season-if-you-are-planning-to-buy-gold-then-these-tips-are-for-you-2552332"><strong>Wedding Season: शादियों का सीजन शुरू, अगर ऐसे खरीदेंगे सोना तो बाद में पछताना नहीं पड़ेगा</strong></a></p>

[ad_2]

Source link

Leave a Comment