HIV और मलेरिया जितना घातक है पॉल्यूशन, हर साल होती है लाखों लोगों की मौत

[ad_1]

Pollution Deaths: ठंड शुरू होने के साथ ही पॉल्यूशन का लेवल भी लगातार बढ़ने लगा है. दिल्ली और मुंबई जैसे शहरों की हवा लगातार जहरीली होती जा रही है. हर साल पॉल्यूशन कम करने को लेकर सरकारों की तरफ से तमाम तरह के कदम उठाए जाते हैं, लेकिन इसका ज्यादा असर नहीं होता. फिलहाल आने वाले कुछ दिनों में राजधानी दिल्ली और बाकी बड़े शहरों की हवा और ज्यादा जहरीली हो सकती है. क्या आप जानते हैं कि प्रदूषण दुनिया में सबसे ज्यादा जान लेने वाली बीमारियों जितना ही घातक है. हर साल पॉल्यूशन की वजह से लाखों लोगों की मौत होती है. 

इतने लाख लोगों की होती है मौत
लेंसेट की एक रिपोर्ट के मुताबिक हर साल दुनियाभर में प्रदूषण से मरने वालों की संख्या 90 लाख तक पहुंच चुकी है, जो लगातार बढ़ रही है. पॉल्यूशन वाले शहरों में रहने वाले लोगों की सेहत पर इसका काफी ज्यादा असर पड़ता है और बाकियों की तुलना में उनकी मौत जल्दी हो रही है. दुनियाभर के 16 फीसदी लोगों की प्रदूषण के चलते समय से पहले ही मौत हो जाती है. प्रदूषण से होने वाली सबसे ज्यादा मौतें उन देशों में हैं, जहां लोगों की आय कम या फिर औसत है. 

सभी के लिए काफी घातक
यानी प्रदूषण एचआईवी और मलेरिया जैसी घातक बीमारियों से भी ज्यादा जानलेवा बन चुका है. इंसानों के अलावा पॉल्यूशन का असर पक्षियों और समुद्री जीवों पर भी पड़ता है. हर साल ऐसे हजारों जीवों की भी इसके चलते मौत होती है. पॉल्यूशन और उससे होने वाले नुकसान को लेकर तमाम तरह की रिपोर्ट्स सामने आती रहती हैं, हालांकि ये कम होने की बजाय लगातार तेजी से बढ़ रहा है. 

भारत में भी प्रदूषण एक बड़ा चिंता का विषय है, पिछले कुछ सालों में भारत के कुछ शहर दुनिया के उन शहरों की लिस्ट में शामिल हुए हैं जहां सबसे ज्यादा प्रदूषण है. राजधानी दिल्ली दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में से एक है. 

ये भी पढ़ें: जानिए Youtube के सबसे पहले वीडियो में क्या कहा गया था, इस खास जानवर के बारे में हुई थी बात

[ad_2]

Source link

Leave a Comment